यूट्यूब की कहानी || YouTube History in Hindi

यूट्यूब की कहानी || YouTube History in Hindi

यूट्यूब की कहानी || YouTube History in Hindi

आजकल कोई नयी चीज़ आपको सीखनी है तो यूट्यूब, आपको बोर हो गया है कोई कॉमेडी  वीडियोस देखने है तो यूट्यूब, आपको स्पोर्ट्स की हाइलाइट्स देखनी है तो यूट्यूब, इतना ही नहीं वीडियो से पैसे कमाने हो तो यूट्यूब ऐसी ये यूट्यूब वेबसाइट जो आजकल हर कोई यूज़ करता है , तो इसकी कहानी क्या है? किसने इसे बनाया? और कैसे आप इसमें फ्री में वीडियो देख पाते है | चलिए जानते है |

history of Youtube in Hindi

यूट्यूब किसने बनाया ? 

यूट्यूब एक अमेरिका की वीडियो देखने की वेबसाइट है, जिसमें रजिस्टर यूज़र वीडियो क्लिप देखने के साथ ही अपना VIDEO अपलोड भी कर सकते हैं। इसे पेपल के तीन पूर्व कर्मचारियों (X-Employees), चाड हर्ले, स्टीव चैन और जावेद करीम तीनो ने मिल कर फरवरी 2005 में बनाया था, जिसे नवम्बर २००६ में गूगल ने $१ .६५  बिलियन अमेरिकी डॉलर में खरीद लिया।

यूट्यूब क्यों बनाया?

यूट्यूब वेबसाइट बनाने का खयाल यूट्यूब के क्रिएटर्स याने  पेपल के तीन पूर्व कर्मचारियों (X-Employees), चाड हर्ले, स्टीव चैन और जावेद करीम इनके मन में कैसे आया ये कहानी जो मीडिया में बार बार बताई जाती थी वो ये है की हर्ले और चैन , २००५ के शुरुआती महीनों के दौरान सैन फ्रांसिस्को शहर में चेन के अपार्टमेंट में एक डिनर पार्टी में खींचे वीडियो को शेयर करने  में प्रॉब्लम आई थी और इससे ही यूट्यूब के विचार का जन्म हुआ।
हालांकि तीसरे क्रिएटर “करीम” पार्टी में शामिल नहीं थे और उन्होंने इस बात से इनकार किया है कि पार्टी हुई थी, लेकिन चैन ने टिप्पणी की है, “यह एक कहानी है और इसे पाच्य बनाने के लिये, चारों ओर विपणन विचारों से मजबूत किया गया था”।

पर करीम के हिसाब से , करीम ने यूट्यूब के लिए प्रेरणा २००४ में हिंद महासागर में आई सुनामी के वीडियो क्लिप ऑनलाइन नहीं मिलने को माना है, मतलब ये की २००४ में जो हिंदी  महासागर में सुनामी आया था उसकी वीडियो क्लिक किसी ना किसी पास हो सकती है लेकिन उसके पास उसे ऑनलाइन शेयर करने का कोई प्लेटफार्म नहीं होगा इसिलए करीम में  मन में यूट्यूब का ख्याल आया। और हर्ले और चेन ने कहा कि यूट्यूब के लिए का मैंने क्रिएशन  एक ऑनलाइन डेटिंग सेवा का एक वीडियो सर्विस प्रोवाइड करना था, और ये और हॉट और नॉट” वेबसाइट से इम्रेस था।

१४ फेब्रुअरी २००५ को www.youtube.com ये डोमेन नाम ख़रीदा गया था हालाँकि वेबसाइट पे काम बादमे चालू किया गया |

तो ऐसी कुछ यूट्यूब की कहानी है |

Spread the love

Satish Dhawale

मुझे कंप्यूटर शिक्षण के क्षेत्र में 14 साल का अनुभव है, मैं NRIT संस्थान में ट्यूटर हूँ जहाँ मैंने 14 वर्षों के अंतराल में 40000 से अधिक छात्रों को कंप्यूटर शिक्षा दी। उसके बाद मैंने अपना YouTube चैनल Learn More शुरू किया, जहाँ लोगों ने मेरी शिक्षण शैली को पसंद किया और उनके प्यार से मैं सफल रहा हूँ। आज मेरे पास 7 यूट्यूब चैनल हैं। मैंने अपनी ब्लॉगिंग वेबसाइट भी शुरू की है जहाँ आप अभी हैं। यहाँ मैं कंप्यूटर, MS Office, Tally, MSCIT, Photoshop आदि के बारे में सभी महत्वपूर्ण और ज्ञानवर्धक जानकारी प्रदान करता हूँ। हमारे शैक्षिक मंच www.learnmorepro.com जहां हम सस्ते दर पर कंप्यूटर कोर्स प्रदान करते हैं।

Leave a Reply