Learn More

How to use Payment Voucher in Tally in Hindi?

Payment Voucher in Tally: देखो दोस्तों, तुमने यह कभी सोचा है कि तुम्हारे बिज़नेस के Payment को कितना सहज और आसान बनाया जा सकता है? जब हम Tally Prime की बात करते हैं, तो बिलकुल यहां तक कि भुगतान का व्यवस्थित व्यवस्थापन भी हो सकता है।

Payment Voucher क्या होता है?

देखो, यह एक तरह का वित्तीय दस्तावेज़ होता है जो किसी भुगतान को संदर्भित करता है। तो किसी को तुम्हारे बिज़नेस की ओर से कुछ पैसे भेजने का प्रमाण होता है।

व्यापर में भुगतान से सम्बंधित लेन देन की एंट्री को Payment Voucher में दर्ज किया जाता है।

उदहारण के तौर पे किसी खर्च का भुगतान, नकद में कोई खरीद या कोई Fixed Assets ख़रीदा गया हो।

ये Receipt Voucher की तरह ही है, लेकिन उसके विपरीत काम करता है। जिस तरह Receipt Voucher में जब हमें कोई Amount (राशि) प्राप्त होती है हम Cash या Bank को Debit करते है, उसी तरह जब हम कोई भुगतान करते है तो हम Cash या bank को Payment Voucher में Credit करेंगे।

इसे भी हम Single Entry और Double Entry Mode से पास कर सकते है।

Tally में Payment Voucher के लाभ क्या हैं?

चलो, अब बात करते हैं कि पेमेंट वाउचर के क्या लाभ हैं। ये वाउचर तुम्हें सहज और सुविधाजनक भुगतान प्रक्रिया देते हैं।

लेकिन सबसे अच्छा यह है कि यह तुम्हें लेन-देन की स्थिति को समर्थित करता है और व्यवसायिक भुगतान की निर्दिष्टता मिलती है।

Tally Prime में Payment Voucher की Shortcut Key क्या हैं?

Tally Prime में Payment Voucher के लिए Shortcut Key “F5” है।

जब आप Tally Prime में किसी भुगतान के लिए वाउचर बनाना चाहते हैं, तो आपको सीधे वाउचर मेनू से नहीं, बल्कि किबोर्ड के “F5” बटन का प्रयोग करके भी एक नया Payment Voucher उत्पन्न किया जा सकता है।

यह एक सुविधाजनक तरीका है जिससे आप अपने Payment Voucher को जल्दी से बना सकते हैं और कार्य को सरलता से प्रभावी बना सकते हैं।

Payment Voucher on Double Entry Mode

Gateway of Tally > Vouchers or Shortcut: V> F5 – Payment Voucher> Ctrl + H – Change Mode > Select Double Entry मे जाए।

Furniture purchased for Rs 2000.
इस Transaction में हमने एक फर्नीचर ख़रीदा है। अब फर्नीचर जो हमने ख़रीदा वो ऑफिस में इस्तेमाल करने कि लिया ख़रीदा है इसीलिए ये हमारा Fixed Assets है। जिसका अलग से Ledger Account बनेगा और इसकी इंट्री कुछ इस तरह पास होगी।Dr: Furniture A/c
Cr: Cash A/c

Dateआप F2 का उपयोग करके Date (दिनांक) को बदल सकते है। (Note: Date को आप Educational Mode में 1,2, और 31 ही रख सकते है।) 
ParticularCredit (Cr): आपको Cash or Bank का Ledger सेलेक्ट करना है। जिस में आपको Cr (Credit) की एंट्री पास करनी है और उसका Amount डालना हैDebit (Dr): आपको उस Account का Ledger सेलेक्ट करना है। जिस में आपको Dr (Debit) की एंट्री पास करनी है और उसका Amount डालना है Note: डेबिट और क्रेडिट के कुल Amount बराबर ही होने चाहिए। अगर किसी Account का ledger पहले से तैयार नहीं है, तो किसी भी Voucher में Entry (एंट्री) पास करते समय आप Shortcut: Alt + C का उपयोग करके Ledger को तुरंत बना सकते हैं।
Narrationआपको Narration (आख्‍यान) बताना है जिससे आपको बाद में पता चल सके कि यह एंट्री किस Transaction की है
Acceptअंत में आपको Entry (एंट्री) को Accept करना है। आप Enter या Y का उपयोग कर सकते है

Payment Voucher on Single Entry Mode

Gateway of Tally > Vouchers or Shortcut: V > F5 – Payment Voucher> Ctrl + H – Change Mode > Select Single Entry मे जाए।

उदहारण कि लिए, 10000 paid to Ramesh and 20000 to Suresh।
इस Transaction में बताया जा रहा है की हमने रमेश को 10000 और सुरेश को 20000 रुपये का भुगतान किया

इसकी एंट्री हम Payment Voucher में Single Entry Mode का उपयोग करते हुए कुछ तरह पास करेंगे।

Dateआप F2 का उपयोग करके Date (दिनांक) को बदल सकते है। (Note: Date को आप Educational Mode में 1,2, और 31 ही रख सकते है।) 
Accountयहाँ पे आपके कंपनी की Cash और Bank Accounts के Ledgers सेलेक्ट करने है। जिसे टैली खुद से Credit करेगा।
ParticularParticular में आपको सिर्फ Debit होने वाले Ledger Account को सेलेक्ट करना है और Amount (राशि) को दर्ज करना है । यहाँ आप एक से ज्यादा Ledger Account सेलेक्ट कर सकते हो ।
Narrationआपको Narration (आख्‍यान) बताना है जिससे आपको बाद में पता चल सके कि यह एंट्री किस Transaction की है
Acceptअंत में आपको Entry (एंट्री) को Accept करना है। आप Enter या Y का उपयोग कर सकते है।

TallyPrime With GST Course

Complete TallyPrime Course with Accounting Theory, Practical with Service, Trading and MFG Accounting & More

टैलीप्राइम छोटे और मध्यम व्यवसायों के लिए एक संपूर्ण व्यवसाय प्रबंधन सॉफ्टवेयर है। टैलीप्राइम आपको जटिलताओं से छुटकारा पाने के लिए लेखांकन, इन्वेंट्री, बैंकिंग, कराधान, बैंकिंग, पेरोल और बहुत कुछ प्रबंधित करने में मदद करता है, और बदले में, व्यवसाय विकास पर ध्यान केंद्रित करता है।

TallyPrime With GST Course

इस कोर्स में आप शुरुआती से लेकर एडवांस तक जीएसटी के साथ टैलीप्राइम सीखेंगे। (सतीश धवले सर द्वारा पाठ्यक्रम) सभी पाठ्यक्रम आसान हिंदी भाषा में | आगे पढ़ें और कोर्स के बारे में जानने के लिए यहां क्लिक करें |

पाठ्यक्रम की विशेषताएं
✅सभी कोर्सेज सरल हिंदी भाषा में
✅टैलीप्राइम जीएसटी के साथ एडवांस कोर्सेज
✅124 विस्तृत वीडियो ????
✅ कोर्स प्रैक्टिस फ़ाइलें उपलब्ध हैं
✅कोर्स कंपलीशन दुकान
✅इंस्टेंटएक्सेंट –

निःशुल्क बोनस-
✅ पीडीएफ पैटर्न
✅ टैली प्राइम ई-बुक हिंदी में

Enroll Now

FREQUENTLY ASKED QUESTIONS

टैली क्या है?
टैली अकाउंटिंग सॉफ्टवेयर है जिसे बिक्री, वित्त, निर्माण, खरीद और इन्वेंट्री जैसे आपके सभी व्यावसायिक कार्यों को स्वचालित और एकीकृत करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

आसानी से टैली कैसे सीख सकते हैं?
आप हमारे नीचे दिए गए प्लेटफॉर्म से आसानी से टैली सीख सकते हैं:
यूट्यूब चैनल से सीखे: Tally Tutorial
ब्लॉग सीखे: https://learnmoreindia.in/category/tally-tips/
हमारा टैली कोर्स चेक करें: टैली प्राइम फुल कोर्स

टैली कोर्स क्या है?
टैली मूल रूप से एक कंप्यूटर सॉफ्टवेयर है जो छोटे और बड़े उद्योगों द्वारा लेखांकन उद्देश्यों के लिए व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है यह एक लेखा सॉफ्टवेयर है जहां सॉफ्टवेयर की सहायता से सभी बैंकिंग और लेखा परीक्षा, लेखा कार्य किए जाते हैं।
Tally Course from Beginners to Advance : Language: Hindi

टैली प्राइम और टैली ERP9.0 में क्या अंतर है?
टैली प्राइम और टैली ERP मे अंतर जानने के लिए हमारा यह यह विडिओ देखें।

टैली में गोल्डन रूल क्या है?
टैली मे गोल्डन रूल को सीखने के लिए हमारा यह 3 Golden Rules Of Accounting Explained In Hindi ब्लॉग पढे, जहां हमने पूरी डीटेल जानकारी दी है।

क्या टैली सीखना मुश्किल है?
नहीं, टैली सीखना कठिन नहीं है। यदि आप लेखांकन की मूल बातें जानते हैं तो यह एक साधारण लेखा सॉफ्टवेयर है। … जीएसटी के आने के बाद, टैली कुछ बदलावों के साथ विकसित हुआ है, इसलिए आपको उद्योग से संबंधित पाठ्यक्रम के साथ एक प्रतिष्ठित संस्थान से उन्नत तकनीकों को सीखने की जरूरत है। टैली को लोकप्रिय रूप से एक अकाउंटिंग सॉफ्टवेयर के रूप में जाना जाता है।

टैली का आविष्कार किसने किया?
भारत गोयनका ने बिना किसी कोड के ‘द अकाउंटेंट’ नामक एक अकाउंटिंग सॉफ्टवेयर विकसित किया। उन्होंने और उनके पिता ने मिलकर 1986 में Peutronics की शुरुआत की – 1988 से इसका नाम बदलकर Tally कर दिया गया। नवीनतम संस्करण Tally 9 है जो दुनिया का पहला समवर्ती बहुभाषी व्यापार लेखा और सूची सॉफ्टवेयर है।

टैली के फ्री नोट्स कहाँ से डाउनलोड कर सकते है?
यदि आप टैली से जुड़े नोट्स फ्री मे पान चाहते है तो हमारा Telegram Channel: Learn More जॉइन करे।

टैली के फ्री टेस्ट कहाँ दे सकते है?
यदि आप टैली के बारे मे अपना ज्ञान जाँचना चाहते है तो इस लिंक पे जाके क टैली के फ्री टेस्ट दे सकते है। https://learnmoreindia.in/category/online-test/tally-online-test/

Spread the love

Leave a Comment