Friday, February 26, 2021

Mouse का काम क्या हैं। What are the functions of the mouse in Hindi

दोस्तो, आज मैं आपको Mouse के बारे मैं बताने वाला हूँ।

आज हम Mouse के बारे में जानेंगे Mouse क्या है? और Mouse क्या काम करता है?

वैसे तो Computer को चलाने (Operate ) करने के लिए Monitor, Mouse, Keyboard, CPU, और Speaker इन चीज़ों की जरुरत होती है। एक चीज का आप ये ध्यान रखे इन सब के काम अलग अलग होते है। पर आज हम माउस की बात कर रहे है। तो Mouse का काम होता है Computer की Screen को Control करते है।

 

- Advertisement -

अब में आपको Mouse क्या है, इसके बारे में बताने जा रहा हूँ?

आप याद रखे Mouse जो है ये एक Pointing Device है। Mouse का इस्तेमाल Computer को Interact करने की लिए कीया जाता है। Mouse का इस्तेमाल Computer के अंदर के Different Application को Operate करने और उन्हें Open करना और Close करने के लिए किया जाता है। Mouse का इस्तेमाल Command देने के लिए किया जाता है।और जो Computer Operate करने के लिए भैठा रहता है वो Mouse के Operate से Computer के अंदर की Screen में कहीं भी आजा सकता है। और जो चाहे वो Application का इस्तेमाल कर सकता है, और काम होने के बाद उन्हें बंद भी कर सकता है।

क्या आपको Mouse का Full Form पता है?

अब में आपको Mouse का Full Form बताऊंगा। और Mouse का Full Form है. Manually Operated Utility for Selecting Equipment है। और Mouse एक Pointing Device है। इसका इस्तेमाल Computer User Desk Surface पर रख कर करता है।

- Advertisement -

Mouse की मदद से Computer Screen पर Point, Select, Click, Drag, Drop  और Scroll करने के लिए किया जाता है।

क्या आप जानते है Mouse को एक दूसरे नाम से भी पुकारा जाता है। और वो है Pointer.

क्या आपको ये पता है Mouse को किसने बनाया था?

वैसे तो Mouse का जो काम करने का तरीका होता है वो है। यह एक X-Y Position Indicator होता है। और इसका इस्तेमाल Display System के लिए भी किया जाता है।

- Advertisement -

और जीनोने Mouse को बनाया था उनका नाम है Douglas Engelbart. और Mouse 1963 में  इसका Invention हुवा था। जो की उस वक़्त XEROX PARC में काम करते थे. ये उसी वक़्त बोहत जयादा Famous हुवा। जो आज आप सभी Use कर रहे।

अब मैं आपको Mouse के ६ काम बताऊंगा।

  • Drag & Drop:- Drag & Drop का मतलब होता है। आप अपने Documents, File, Folder को कहीं पर भी Drag कर के रख सकते है।
  • Hover:- Hover का मतलब होता है जब आप किसी Object पर अपना Mouse Cursor ले जाते है। तब वो उस से Related Information आपको देता है।
  • Mouse Cursor को Move करना होता है:- ये एक Primary Function है, जिसका काम Mouse Cursor को Screen मैं  एक जगह से दूसरी जगह Move करना होता है।
  • Open और Close Program:- Mouse के इस्तेमाल से Computer User किसी भी Icon, File, Folder, या फिर क्लीसी भी दूसरे Program को Open करके उनका इस्तेमाल करके उनको बंद (Close) कर सकता है।
  • Scroll:- अगर आपके पास Document है और उनके अंदर Information जयादा है तो आप उन्हें Mouse से Scroll कर के भी देख सकते है।
  • Mouse का इस्तेमाल Text पे Click करने और Text को Select करने और Move करने, और Highlight करने के लिए होता है।

और लर्न मोर प्रो के कोर्सेस पे है ९०% से ९५ % डिस्काउंट (कंप्यूटर कोर्सेस )  

90% To 95% Discount on New Courses Hurry Up !

What is Mouse Interface?

जैसे जैसे वक़्त बदलता गया और Technology धीरे धीरे Advance होती गई वैसे हे Mouse में भी बदलाव (Changes) आने लगे।

  • Serial Mouse:- Serial Mouse बोहत हे काम जगहों पर आपको देखने मिल सकता है। ये पहले Use आता था पर जब से Technology, Advance हो गई है। तब से बोहत हे कम Use आते है।
  • PS/2 Mouse:-  PS/2 Mouse, Serial Mouse का एक Upper Version है। ये थोड़ा अलग होता है, और लोगों को पसंद भी आता है। और आप चाहे तो PS/2 Mouse अब भी खरीद सकते है। अभी भी कुछ Companies Motherboard Manufacture करती है तो PS/2 Port सुविधा देती है। पर आप एक चीज़ का ये ध्यान रखे ये PS/2 Connector (Mini-DIN) Circular होती है। और PS/2 Mouse में 6 Pins होते है। और इन्हे ध्यान से CPU में लगाना होता है। वार्ना  PS/2 Port Mouse के Pins टूट भी सकते है।
  • USB Mouse:- जिस तरह से Technology Change होती गई वैसे ही PS/2 Mouse से USB Mouse आने लगे। और इनका का Use अभी बोहत ज़ायदा होता है। और आप अपने CPU मैं आगे 2 USB होते है आप वहां भी Connect कर सकते है, और CPU के पीछे 4 USB होते है, आप वहां भी Connect कर सकते है।
  • Wireless Mouse:- Wireless Mouse के काम करने का तरीका Cordless या फिर Wireless Mice Data Transmit Via Infrared Radiation, और Bluetooth  बिना Wire के होता है। इसे इस तरह से Design  किया जाता है की Mouse के अंदर Safely स्टोर हो सके। और कहीं पे तो “Nano” Receiver बही होते है। अगर आपको ये Connect करना है तो ये Receiver को Computer मैं Connect करने के लिए Serial Port या फिर USB Port का इस्तेमाल की जाता है। अगर ऐसे नहीं तो Built in Part मतलब Bluetooth का इस्तेमाल किया जाता है। अभी के Modern  ज़माने मैं Wireless Mouse का इस्तेमाल बोहत जाएदा होता है। और इन्हे इस तरह से Design किया जाता है, की ये आपके Computer या Laptop में हमेशा आसानी से Connect हो सके। और कुछ तो Wireless Mouse को USB Receiver के Via Connect किया  है। और Bluetooth Connection के जरिये इन ही तरह के Mouse को Battery से Power दी जाती है। जिनका नाम AA Type होते है।
क्या आपने कभी पहले माऊस के बारे में पढा है। नहीं पढा होगा तो आप ये भी पढना पसंद करोगे।
Read More – click here 
 

LEARN MORE PRO CLICK HERE

आशा है आपको इस ब्लॉग में Mouse की जानकारी मिली होगी और ऐसे ही ब्लॉग पड़ने के लिए निचे दिए गए लिंक्स पे क्लिक करे |
- Advertisement -

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

7,690FansLike
3,476FollowersFollow
853,982SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles